Wednesday , 19 September 2018
पाठक संख्याhit counter
    BREAKING NEWS
    इमरान खान का अजीब बयान, भारत-पाक के बिगड़े रिश्तों के लिए मोदी के सिर मढ़ा दोष

    इमरान खान का अजीब बयान, भारत-पाक के बिगड़े रिश्तों के लिए मोदी के सिर मढ़ा दोष

    इस्लामाबाद। क्रिकेटर से नेता बने इमरान खान ने भारत और पाकिस्तान के बीच खराब संबंधों का ठीकरा भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सिर पर फोड़ा है। उन्होंने कहा है कि पाकिस्तान के अपदस्थ प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने दोनों देशों के संबंधों को बेहतर करने की कोशिश की थी। मगर, भारत सरकार के पाकिस्तान विरोधी आक्रामक हाव भाव ने दोनों पड़ोसी देशों के बीच मौजूदा गतिरोध को जन्म दिया।

    अपने चुनावी प्रचार के दौरान इनरान खान ने मोदी पर जमकर हमला बोला। उन्होंने भ्रष्टाचार के दोषी पाए गए और पद से हटाए गए प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की प्रशंसा की है। इमरान की पार्टी 25 जुलाई को होने जा रहे चुनाव से पहले अपना आधार मजबूत करती दिख रही है।

    पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ प्रमुख इमरान खान ने कहा कि देश की जटिल राजनीतिक वास्तविकताओं को समझने वाला व्यक्ति ही प्रधानमंत्री आवास में जाएगा। इमरान खान ने कहा कि शरीफ ने भारत के साथ संबंध सुधारने की हर संभव कोशिश की।

    यहां तक कि नरेंद्र मोदी को अपने घर भी बुलाया। लेकिन मुझे लगता है कि पाकिस्तान को अलग-थलग रखना मोदी सरकार की नीति है। उनका पाकिस्तान विरोधी आक्रामक हाव-भाव है। कोई भी इस तरह के रवैये पर क्या कर सकता है?

    गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी दिसंबर 2015 में पाकिस्तान गए थे। मगर, जनवरी 2016 में पठानकोट में हुए आतंकवादी हमले और फिर सितंबर में हुए उरी हमले ने दोनों देशों के बीच संबंधों को तनावपूर्ण कर दिया।

    इमरान ने कहा कि पाकिस्तान में राजनीति पर सेना का प्रभाव रहा है। पाकिस्तान के 70 साल के इतिहास में 33 साल आर्मी का शासन रहा है। हमारे पास बदतर राजनीतिक सरकारें थी, जिसकी वजह से ऐसा होता रहा है। मैं इसे उचित नहीं ठहरा रहा, लेकिन जहां खाली जगह होगी, उसे कुछ ना कुछ तो भरेगा ही।

    उन्होंने कहा कि आप चुनाव जीतने के लिए लड़ते हैं। मैं जीतना चाहता हूं। यह यूरोप नहीं पाकिस्तान है, जहां आपको धन और हजारों प्रशिक्षित पोलिंग एजेंट की जरूरत होती है, जो लोगों को चुनाव के दिन मतदान केंद्र तक ले जा सकें। यदि आपके पास ऐसे कार्यकर्ता नहीं हैं तो आप चुनाव नहीं लड़ सकते।

    About jap24news