Monday , 16 July 2018
पाठक संख्याhit counter
    BREAKING NEWS
    उन्नाव रेप केस में आरोपी विधायक सेंगर की हो सकती है गिरफ्तारी, भाई अतुल गिरफ्तार

    उन्नाव रेप केस में आरोपी विधायक सेंगर की हो सकती है गिरफ्तारी, भाई अतुल गिरफ्तार

    लखनऊ.उत्तर प्रदेश में रेप के मामले में उन्नाव जिले के बांगरमऊ के विधायक कुुलदीप सिंह सेंगर के नाम पर एफआईआर दर्ज होने के बाद उनकी कभी भी गिरफ्तारी हो सकती है। इस मामले में विधायक के भाई अतुल सेंगर समेत 5 लोगों को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। महिला के पिता के साथ मारपीट में अतुल सिंह शामिल था। इस बीच रेप का आरोप लगाने वाली महिला के पिता की सोमवार को हुई मौत की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पता चला है कि बड़ी आंत फटने से उनकी मौत हुई है। उनके शरीर पर 14 जगह गंभीर चोट के निशान पाए गए हैं। उधर, विधायक का एक ऑडियो सामने आया है, जिसमें वह पीड़िता के चाचा को समझा रहे हैं। हालांकि, इस ऑडियो की पुष्टि नहीं हुई है।

    पीड़िता बोली- उसने मेरा जीवन दुखी बना दिया, इंसाफ चाहिए

    मामले में पीड़िता ने कहा, विधायक कुलदीप को गिरफ्तार नहीं किया जा रहा है। मुझे नहीं पता कि उसके भाई को पकड़ा गया है। उसने मेरा जीवन दुखी बना दिया, मुझे इंसाफ चाहिए। मेरे पिता को भी मार डाला। हम चाहते हैं कि विधायक को फांसी दी जाए।

    मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा

    मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में वकील मनोहर लाल शर्मा ने याचिका दायर कर मामले की सीबीआई जांच करने और पीड़िता को सहायता देने का निर्देश देने का अनुरोध किया है। उन्होंने पीड़िता के परिवार को सुरक्षा देने की मांग भी की है। साथ ही जांच सीबीआई से कराने की मांग की है।

    राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का यूपी सरकार और पुलिस विभाग को नोटिस

    राज्य के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर आनंद कुमार ने कहा कि पीड़िता की शिकायत के आधार पर जांच के लिए एसआईटी बनाई गई है। विधायक और उनके भाई अतुल के पिछले मामलों को भी खंगाला जाएगा। इस मामले में पुलिस द्वारा बरती गई लापरवाही की भी जांच की जाएगी। अतुल समेत 5 लोगों की गिरफ्तारी डीजीपी ओपी सिंह के निर्देश पर लखनऊ क्राइम ब्रांच की टीम ने की। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने मंगलवार को राज्य सरकार और पुलिस प्रमुख को नोटिस देकर मामले में जवाब मांगा है।

    पीड़िता के चाचा और विधायक सेंगर की बातचीत का कथित ऑडियो आया सामने

    चाचा: गांव में यह क्या करवा रहे थे नेता जी, यह तो ठीक नहीं है, मरवाना, पिटवाना बच्चों को, पप्पू को, यह सब अच्छी बात नहीं है।
    विधायक: हमें तुम धमकी दे रहे हो, बेटा।
    चाचा: दे नहीं रहे हैं, आपकी सेवा की है इसलिए आपको बता रहा हूं।
    विधायक: हमारी सेवा की है तो हमारी सेवा में रहना चाहिए, हमारे खिलाफ ऐप्लीकेशन क्यों देते हो
    चाचा: मैं आपके खिलाफ कुछ नहीं कर रहा था।
    विधायक: हमारे खिलाफ पर्चा क्यों छपवाते हो
    चाचा: मैंने नहीं छपवाया, यह आप पता करो लेकिन हमने नहीं छपवाया।
    विधायक: एक बात बताओ कि तू मेरा छोटा भाई है।
    चाचा: हां, हूं।
    विधायक: छोटा भाई है तो बड़े भाई के खिलाफ पर्चा छपवाना चाहिए।
    चाचा:मैंने नहीं छपवाया, बताओ मैं कैसे यकीन दिलाऊं, हनुमान तो नहीं कि सीना फाड़ के दिखा दूं।
    विधायक: एक मिनट मेरी बात सुनो लोग चाहते हैं अब भगवान दुआ से ठीक हुए हो, ये लोग मर जाएं, लड़ाई में सबका नुकसान होता है। तुम हमारे पास आओ, हम तुम मिलकर नया अध्याय शुरू करते हैं।
    चाचा: अतुल को क्या जरूरत थी मारने पीटने की।
    विधायक: अतुल सगे हैं तुम्हारे या कोई और सगा है तुम्हारे। अतुल अपने काम की मेरे सामने गलती मानेंगे। महेश अपने काम की मेरे सामने गलती मानेंगे। हमारा तुम्हारा परिवार एक होकर रहेंगे, अम्मा हमसे कल मिलेंगी और हम उन्हें बैठाकर चाय पिलाएंगे, सबको रोको।

    About jap24news