Tuesday , 21 August 2018
पाठक संख्याhit counter
    BREAKING NEWS
    किसान आंदोलन : गांव बंद आंदोलन पहले दिन बेअसर

    किसान आंदोलन : गांव बंद आंदोलन पहले दिन बेअसर

    गांव बंद किसान आंदोलन के पहले दिन शुक्रवार को पूरे प्रदेश में शांति रही। आंदोलन के मद्देनजर सरकार अलर्ट रही। गृह विभाग के अधिकारी मैदानी अफसरों से फीडबैक लेते रहे। कुछ स्थानों पर छिटपुट विरोध प्रदर्शन के बीच बंद बेअसर रहा। मंडियों में फल और सब्जियों की आवक बनी रही। हालांकि कई जगह आवक आम दिनों की तुलना में कम थी। दूध की उपलब्धता को लेकर भी कोई परेशानी नहीं हुई। मालवा-निमाड़ में बंद का मामूली असर देखा गया। पिछले साल हुई हिंसक वारदातों के मद्देनजर इस बार पुलिस-प्रशासन मुस्तैद रहा।

    10 जून को भारत बंद रखेंगे किसान संगठन –

    शर्मा राष्ट्रीय किसान मजदूर महासंघ ने 10 जून को भारत बंद का आव्हान किया है। संगठन के संयोजक शिवकुमार शर्मा ‘कक्का” ने दावा किया कि सभी किसान संगठन लामबंद हैं। कई राज्यों में आंदोलन शुरू हो गया है। धीरे-धीरे इसका असर दिखना शुरू हो जाएगा। वहीं, भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश महामंत्री अनिल यादव ने कहा कि सरकार यदि हमारी तीन मांगें (कर्जमाफी, लाभकारी मूल्य और किसान पर दर्ज प्रकरण की वापसी) मान लेती है तो हम आंदोलन समाप्त करने को भी तैयार हैं। गांव बंद आंदोलन को लेकर शिवकुमार शर्मा ने शुक्रवार को पत्रकारवार्ता कर कहा कि पिछले साल भी इन्हीं तारीखों में आंदोलन हुआ था।

    भोपाल और आसपास –

    होशंगाबाद, रायसेन, हरदा, बैतूल, सागर, छिंदवाड़ा, अशोकनगर, राजगढ़ में हालात काबू में रहे। गुना में सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मंडी में किसानों की समस्याएं सुनीं और किसान आंदोलन में कांग्रेस का साथ देने की बात कही। सीहोर में नर्मदा बचाओ आंदोलन की नेता मेधा पाटकर ने जनसभा को संबोधित करते हुए किसानों के आंदोलन को सही ठहराया।

    मंदसौर में किसानों ने दूध से शिवजी का किया अभिषेक –

    बंद का असर मंदसौर जिले के मल्हारगढ़ क्षेत्र के गांवों में दिखाई दिया। बालागुड़ा, बूढ़ा, टकरावद, चिल्लौद पिपलिया सहित अन्य गांवों में किसानों ने कहीं भी दूध का वितरण नहीं किया। वे सब्जियां लेकर भी मंडी में नहीं पहुंचे। बालागुड़ा में किसानों ने अपने साथ लाए दूध से शिव मंदिर में अभिषेक कर दिया। दलौदा के पास किसान मजदूर संगठन ने सब्जी-दूध से महादेव का अभिषेक किया।

    महाकोशल-विंध्य में कम असर –

    महाकोशल-विंध्य में ज्यादा असर नहीं दिखा। जबलपुर, नरसिंहपुर, सिवनी, डिंडौरी, बालाघाट, छिंदवाड़ा, पन्न्ा, रीवा, मंडला, दमोह, कटनी में सब्जियों की आवक सामान्य रही। सतना में किसान मजदूर महासंघ ने गांव-गांव जाकर किसानों से संपर्क किया और उनका समर्थन मांगा। जबलपुर में पिछले 15 दिन से पुलिस और प्रशासन आंदोलन को लेकर अलर्ट था। ग्रामीण इलाकों में अतिरिक्त पुलिस बल तैनात था। इसका नतीजा रहा कि कहीं भी कोई आंदोलन नहीं नजर आया। शहर की मंडियों में महीने का पहला दिन होने की वजह से छुट्टियां थीं, जिसस किसान नहीं आए।

    भोपाल। आईजी इंटेलीजेंस मकरंद देउस्कर ने बताया पिछले साल के किसान आंदोलन के वीडियो को इस साल के आंदोलन से जोड़कर वायरल करने पर रतलाम के दो ग्रुप के खिलाफ केस दर्ज कर उनके एडमिन गिरफ्तारी किए गए हैं।

    किसान नेता पर केस, जेल भेजा शाजापुर-

    ग्राम अरनियाकलां में जबरन दुकान बंद कराने व सब्जी-फल उठाकर सड़क पर फेंकने के विवाद में भारतीय किसान यूनियन के शरद सिकरवार को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया । जहां से उसे जेल भेज दिया गया।

    सिवनी: कृषि मंडी में किसान की दर्द से तड़पकर मौत –

    सिवनी कृषि उपज मंडी सिमरिया में अव्यवस्था के बीच एक किसान सोहनलाल अहरवार (48)की मौत हो गई। दोपहर में चने की बोरियां ढो रहे सोहनलाल को तेज दर्द हुआ था। परिजनों का आरोप है कि दर्द से तड़पते किसान को मंडी की अव्यवस्थाओं के कारण न तो ढंग से पानी नसीब हुआ है और न ही अस्पताल पहुंचाने का सहारा मिला। बेटे को दर्द से तड़पते पिता को बाइक से जिला अस्पताल ले जाना पड़ा। सिवनी कलेक्टर गोपालचंद डाड के मुताबिक किसान की मौत हार्ट अटैक से हुई है।

    राजनीतिक व्यक्ति को मंच पर चढ़ने नहीं देंगे –

    राष्ट्रीय किसान मजदूर महासंघ के संयोजक शिवकुमार शर्मा ‘कक्का” ने किसान आंदोलन को कांग्रेस का बताए जाने पर कहा कि कोई भी दल जायज मांगों का समर्थन करता है तो अपराध नहीं है। मैं इस उम्र में क्या चुनाव लडूंगा। यह तो दूसरी शादी करने जैसा है। सरकार यदि गिरफ्तारी करती है तो हरियाणा के गुरनाम सिंह बागडोर संभालेंगे। 11 जून को भोपाल में महासंघ की बैठक होगी, जिसमें आगामी रणनीति तय की जाएगी।

    About jap24news