Monday , 16 July 2018
पाठक संख्याhit counter
    BREAKING NEWS
    जासूसी रैकेट: कंगना ने सीडीआर केस में आरोपी वकील को दिया था ऋतिक का मोबाइल नंबर- पुलिस

    जासूसी रैकेट: कंगना ने सीडीआर केस में आरोपी वकील को दिया था ऋतिक का मोबाइल नंबर- पुलिस

    मुंबई.महाराष्ट्र के हाईप्रोफाइल कॉल डिटेल (सीडीआर) जासूसी रैकेट में नए खुलासे हुए हैं। इसमें कई बॉलीवुड सेलिब्रिटी के नाम जुड़ते नजर आ रहे हैं। ठाणे क्राइम ब्रांच के दावे के मुताबिक, जांच में पता चला है कि दो साल पहले एक्ट्रेस कंगना रणौत ने ऋतिक रोशनका मोबाइल नंबर रैकेट में शामिल आरोपी वकील रिजवान सिद्दीकी को दिया था। वहीं, दूसरा नाम जैकी श्रॉफ की पत्नी आयशा का है, जिन्होंने गलत तरीके से सीडीआर हासिल कर इसे वकील को दिया। पुलिस ने पूछताछ के लिए आयशा को समन भेजा है। बता दें कि 16 मार्च को रिजवान को गिरफ्तार कर चुकी है। उस पर एक्टर नवाजुद्दीन की पत्नी अंजलि की सीडीआर हासिल करने का आरोप है।

    क्राइम ब्रांच ने क्या बताया?

    – न्यूज एजेंसी के मुताबिक, ठाणे पुलिस के डीसीपी, अभिषेक देशमुख ने मंगलवार को बताया कि आरोपी रिजवान के मोबाइल की जांच में पता चला है कि आयशा श्रॉफ ने भी गैर-कानूनी तरीके से साहिल खान की सीडीआर हासिल की। जिसे उन्होंने रिजवान के साथ साझा किया था। उनसे पूछताछ के लिए समन भेजा है।

    – वहीं, रिजवान से पूछताछ में जानकारी मिली है कि कंगना रणौत ने 2016 में ऋतिक रोशन का मोबाइल नंबर वकील रिजवान को दिया था। फिलहाल, इसके पीछे की वजह सामने नहीं आई है, पुलिस जांच कर रही है।

    – बता दें कि कुछ साल पहले ऋतिक और कंगना के बीच रिलेशनशिप को लेकर विवाद सामने आया था। तब दोनों ने एक-दूसरे पर गंभीर आरोप लगाए थे।

    वकील रिजवान पर क्या आरोप हैं?

    – रिजवान पर आरोप हैं कि उसने एक्टर नवाजुद्दीन सिद्दीकी के कहने पर पत्नी अंजलि के कॉल डिटेल रिकॉर्ड अवैध रूप से हासिल किए थे। इसके लिए ठाणे में सीडीआर रैकेट चलाने वाले प्राइवेट जासूस प्रशांत पालेकर की मदद ली।

    – हालांकि, नवाज और उनकी पत्नी जासूसी के आरोपों को खारिज कर चुके हैं। अंजलि ने पिछले दिनों कहा था कि नवाजुद्दीन सेलिब्रिटी हैं, इसलिए उन्हें टारगेट किया जा रहा है। वह कभी उनकी जासूसी नहीं करा सकते।

    रिजवान की पत्नी ने गिरफ्तारी पर उठाए सवाल

    – सीडीआर रैकेट में गिरफ्तारी के बाद रिजवान सिद्दीकी की पत्नी तंसीम ने बॉम्बे हाईकोर्ट में हेबियस कार्पस पिटीशन दायर की है। इस पर कोर्ट ने मंगलवार को महाराष्ट्र सरकार से गिरफ्तारी को लेकर रिकॉर्ड मांगा।

    – पिटीशन में पत्नी ने कहा है कि रिजवान को ठाणे क्राइम ब्रांच की ओर से 14 फरवरी को गवाही के लिए समन भेजा गया। इसके बाद 16 मार्च को पुलिस की टीम पूछताछ के लिए उनके घर आई और नोटिस दिए बगैर रिजवान को गिरफ्तार कर लिया।

    – दूसरी ओर, ठाणे पुलिस के वकील ने कोर्ट को बताया कि रिजवान के खिलाफ वारंट जारी करने के बाद ही उसे गिरफ्तार किया गया। इस मामले में किसी तरह की अवैध हिरासत के आरोप गलत हैं।

    क्या है सीडीआर जासूसी केस?

    – महाराष्ट्र पुलिस ने पिछले दिनों ठाणे में मोबाइल कम्पनियों से कॉल डिटेल चुराने वाले गिरोह के 11 सदस्यों को गिरफ्तार किया था। आरोपी प्राइवेट जासूसों के लिए टेलिकॉम कंपनियों से कॉल रिकॉर्ड हासिल करते थे।
    – इसमें आरोपियों से पूछताछ के दौरान नवाजुद्दीन पर वकील के जरिए पत्नी की सीडीआर हासिल करने का आरोप लगा। हालांकि, फिलहाल साफ नहीं है कि आखिर नवाज ने अंजलि की जासूसी क्यों करवाई? पुलिस ने पूछताछ के लिए नवाजुद्दीन को 3 बार समन भेजा, लेकिन वे नहीं गए।

     

    About jap24news