Thursday , 22 February 2018
पाठक संख्याhit counter
    BREAKING NEWS
    जिस पुल को तीन करोड़ रु. में बनाया उसी की मरम्मत पर 3 करोड़ और खर्च किए थे

    जिस पुल को तीन करोड़ रु. में बनाया उसी की मरम्मत पर 3 करोड़ और खर्च किए थे

    रायपुर/बिलासपुर.बहुचर्चित तुर्काडीह पुल घोटाले में आरोपियों की गिरफ्तारियां शुरू हो गयी है। तीन करोड़ की लागत से बने पुल के मरम्मत में भी इतनी ही राशि खर्च कर शासन को नुकसान पहुंचाया गया था। ईओडब्ल्यू की टीम ने बुधवार को पीडब्ल्यूडी के अस्सिटेंट इंजीनियर आरके वर्मा को बिलासपुर के रामा वैली स्थित उनके घर से गिरफ्तार किया। वर्मा लंबे समय से फरार चल रहे थे। कोर्ट ने तुर्काडीह पुल निर्माण में गड़बड़ी करने के आरोपी अधिकारी और ठेका कंपनी के संचालकों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया था। कोर्ट में चालान पेश होने के बाद से ही आरोपी फरार हैं।

    – दरअसल बिलासपुर शहर के अंदर भारी वाहनों का प्रवेश रोकने सकरी से तुर्काडीह बाइपास का निर्माण किया गया। इस मार्ग में अरपा नदी पर पुल बना। तीन करोड़ की लागत में बना पुल वर्ष 2007 में यातायात के लिए खोला गया। उसी साल पुल में दरार आ गयी थी, जिसके बाद तीन साल तक पुल पर आवागमन रोक दिया गया था।

    – खास बात ये कि इस पुल को दोबारा तैयार करने में भी 3 करोड़ रुपए और खर्च की गई। हाईकोर्ट ने मामले में संज्ञान लेते हुए जांच का आदेश दिया।

    – एसीबी ने जांच कर तत्कालीन ईई एससी खंडेलवाल, लोक निर्माण विभाग के कार्य प्रभारी अधीक्षण यंत्री, सब इंजीनियर आरके वर्मा और सुंदरानी कंस्ट्रक्शन के डायरेक्टरों के खिलाफ जुर्म दर्ज कर विशेष कोर्ट में जनवरी 2017 को चालान पेश किया है। आरोपियों को कोर्ट में उपस्थित होने नोटिस दिया था।

    – नोटिस के बावजूद कोई भी आरोपी अदालत में उपस्थित नहीं हो रहा है। विचारण कोर्ट ने मामले को गंभीरता से लेते हुए गिरफ्तारी वारंट जारी कर अगली सुनवाई में आरोपियों को पेश करने का आदेश दिया है।

    About jap24news