Saturday , 15 December 2018
पाठक संख्याhit counter
    BREAKING NEWS
    पूर्व सीएफओ राजीव बंसल से मुकदमा हारी इन्फोसिस, देना होगा 12 करोड़ रुपए

    पूर्व सीएफओ राजीव बंसल से मुकदमा हारी इन्फोसिस, देना होगा 12 करोड़ रुपए

    नई दिल्ली। देश की दूसरी सबसे बड़ी आइटी कंपनी इन्फोसिस को अपने पूर्व चीफ फाइनेंशियल ऑफीसर (सीएफओ) राजीव बंसल के सेवरेंस पैकेज पर आर्बिट्रेशन ट्रिब्यूनल में झटका लगा है। कंपनी को 12.17 करोड़ रुपये ब्याज सहित बंसल को अदा करने के लिए आदेश दिया गया है

    कंपनी द्वारा 17 करोड़ रुपये से ज्यादा सेवरेंस पे का भुगतान रोक किए जाने के बाद बंसल ने इसकी शिकायत आर्बिट्रेशन ट्रिब्यूनल में की थी। कंपनी ने बीएसई फाइलिंग में जानकारी दी है कि ट्रिब्यूनल ने बंसल के सेवरेंस पैकेज को लेकर अपना फैसला जारी कर दिया है।

    फैसले के अनुसार कंपनी को 12.17 करोड़ रुपये ब्याज के साथ बंसल को अदा करने होंगे। ट्रिब्यूनल ने कंपनी के परिवाद को सही माना लेकिन सेवरेंस पे के रूप में पहले अदा किए गए 5.2 करोड़ रुपये वापसी और प्रतिपूर्ति के दावे को खारिज कर दिया गया।

    कंपनी ने यह भी कहा है कि आर्बिट्रेशन ट्रिब्यूनल का फैसला गोपनीय है। कंपनी इस मामले में कानूनी सलाह लेगी। वर्ष 2015 में जब बंसल ने कंपनी छोड़ी थी तब इन्फोसिस ने 17.38 करोड़ रुपये सेवरेंस पे के रूप में देने पर सहमति जताई थी। यह रकम उनके 24 महीने का वेतन था। इसके बाद बंसल को पांच करोड़ रुपये का भुगतान कर दिया। लेकिन सेवरेंस पे भी इन्फोसिस में छिड़े कॉरपोरेट वार की एक मुख्य वजह थी।

    कंपनी के सह संस्थापक एनआर नरायणमूर्ति और अन्य लोगों ने सेवरेंस पे पर आपत्ति जताई थी। उन्होंने यहां तक कह दिया कि कंपनी में गड़बड़ियों पर चुप्पी साधने के एवज में यह भुगतान किया जा रहा है। पिछले साल फरवरी में कंपनी के तत्कालीन चेयरमैन आर. शेषाशायी ने कहा था कि सेवरेंस पे की बकाया रकम रोकी गई है ताकि सेवरेंस कांट्रेक्ट के बारे में स्पष्टीकरण मिल सके।

    About jap24news