Friday , 14 December 2018
पाठक संख्याhit counter
    BREAKING NEWS
    पूर्व IAS अधिकारी शशि कर्णावत कांग्रेस में शामिल, 33 लाख के प्रिंटिंग घोटाले में सरकार कर चुकी है बर्खास्त

    पूर्व IAS अधिकारी शशि कर्णावत कांग्रेस में शामिल, 33 लाख के प्रिंटिंग घोटाले में सरकार कर चुकी है बर्खास्त

    भोपाल.पूर्व आईएएस अधिकारी शशि कर्नावत कांग्रेस में शामिल हो गई हैं। मंगलवार को सुबह उन्होंने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ से मुलाकात की और कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ले ली। उन्होंने सरकार के खिलाफ लंबे समय तक आंदोलन किया था और कई विवादास्पद बयान देकर चर्चा में रही थीं।

    बता दें कि  कैडर 1999 बैच की आईएएस शशि कर्नावत को सरकार ने 33 लाख के प्रिंटिंग घोटाले में सितंबर 2017 में बर्खास्त कर दिया था। 1999-2000 में मंडला जिला पंचायत सीईओ रहते हुए 33 लाख के प्रिंटिंग घोटाले के आरोप में ईओडब्ल्यू ने कर्णावत के खिलाफ केस दर्ज किया था।

    कर्णावत पर ये थे आरोप

    -बर्खास्त आईएएस अफसर शशि कर्णावत मंडला में साल 1999-2000 में हुए प्रिंटिंग घोटाले में दोषी पाई गई थीं। मंडला के विशेष न्यायालय ने सितंबर 2013 में उन्हें घोटाले में दोषी पाते हुए पांच साल के कारावास की सजा के साथ 50 लाख रुपए का जुर्माना ठाेंका था। वे जमानत लेकर जेल से बाहर आ गई थीं। उन्हें सरकार ने निलंबित कर विभागीय जांच शुरू कर दी थी।

    बढ़ा सकती हैं शिवराज सरकार की मुश्किलें
    -निलंबन और बाद में बर्खास्त करने के फैसले के बाद कर्णावत ने कहा था कि मुख्यमंत्री लगातार भरोसा दिलाते रहे कि तुम्हारे साथ न्याय होगा। बार-बार दस्तावेजों के साथ मंत्रालय बुलाया पर सब-कुछ दिखावा था। इससे सरकार की कथनी और करनी उजागर हो गई है। अब हम जनता को सरकार का झूठ बताएंगे। इसे फैसले से सरकार की उलटी गिनती शुरू हो गई है। कांग्रेस में शामिल होकर कर्नावत ने साफ कर दिया है कि वह भाजपा सरकार की मुश्किलें बढ़ाएंगीं।

    स्पेशल कोर्ट ने कर्णावत को सुनाई थी 5 साल की सजा
    -सितंबर 2013 में वहीं के स्पेशल कोर्ट ने कर्णावत को 5 साल जेल और 50 लाख रुपए जुर्माने की सजा सुनाई थी।
    -इसके अगले माह ही उन्हें सस्पेंड कर दिया गया था। तब से निलंबन आदेश बढ़ाया जा रहा था।
    -इससे पहले एमपी कैडर के आईएएस अधिकारी दंपती अरविंद जोशी और टीनू जोशी को भी भ्रष्टाचार के चलते बर्खास्त किया जा चुका है।

    About jap24news