Thursday , 15 November 2018
पाठक संख्याhit counter
    BREAKING NEWS
    प्रेमिका की हत्याकर भाई को मैसेज, ‘अपनी बहन की लाश ले जाओ

    प्रेमिका की हत्याकर भाई को मैसेज, ‘अपनी बहन की लाश ले जाओ

    रायपुर। पंडरी थाना क्षेत्र के कांपा, पंचवटी नगर में एक मकान के बंद कमरे से पिछले दो दिनों उठ रही तेज दुर्गंध से मकान मालिक और आसपास के रहवासी परेशान थे। मंगलवार को मकान मालिक सज्जाक मेमन ने कमरे के पास जाकर देखा तो बाहर कुत्ते ने गंदगी कर दी थी, जिसे साफ करवाया, सोचा शायद इसके कारण ही दुर्गंध फैल रही है, लेकिन यह सोचना गलत साबित हुआ।

    आखिरकार बुधवार को पंडरी पुलिस को इसकी जानकारी दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने बाहर से ताला बंद कमरे का दरवाजा तोड़वाया और भीतर प्रवेश किया तो नजारा देखकर सभी सिहर उठे। फर्श पर युवती की सड़ी-गली लाश पड़ी थी। उसके गले व हाथ की नस को बेदर्दी से काटकर हत्या की गई थी।

    मृतका की शिनाख्त लोधीपारा निवासी रेवती पटेल उर्फ सोना (28) के रूप में की गई। मृतका एक निजी अस्पताल में स्टाफ नर्स थी। पंडरी पुलिस के मुताबिक मूलत: बलौदाबाजार जिले के भाटापारा निवासी रेवती पटेल लोधीपारा होंडा शो रूम के पीछे मां और बहन के साथ किराए के मकान में रह रही थी।

    पिछले एक साल से रेवती पटेल और घनश्याम वर्मा उर्फ राजा लिव इन रिलेशन में थे। राजा ने कांपा, पंचवटी नगर में किराये का मकान ले रखा था, जहां रेवती अक्सर आकर रुकती थी। अंतिम बार 1 जुलाई को वह पंचवटी नगर मकान में घनश्याम के साथ देखी गई थी। उसके बाद से वह अपने मां-बहन के पास भी नहीं गई।

    मैसेज पर नहीं दिया ध्यान

    पुलिस ने बताया कि हत्या के मामले की तफ्तीश चल ही रही थी तभी रेवती का फुफेरा भाई विरेंद्र पटेल दोपहर में थाने पहुंचा। उसने अपने मोबाइल पर रेवती के नंबर से दो जुलाई को तड़के पांच बजकर 21 मिनट पर आए मैसेज को दिखाया। इसमें घनश्याम ने लिखा था-तुम्हारी बहन की मैंने हत्या कर दी है। पंडरी पुलिस को कमरे में साथ ले जाकर लाश को निकलवा लेना…अलविदा।

    लोधीपारा चौक पर टाइपिंग दुकान चलाने वाले विरेंद्र ने बताया कि उसने यह मैसेज उसी दिन पढ़कर रेवती के घर जाकर इसकी जानकारी दी थी, लेकिन इस मैसेज को किसी ने गंभीरता से नहीं लिया और न लापता रेवती की घरवालों ने तलाश करने की जरूरत समझी।

    आरोपित के पिता पूर्व सरपंच बलौदाबाजार जिले के ग्राम रावन निवासी पेशे से वाहन चालक घनश्याम उर्फ राजा वर्मा (32) घटना के बाद से फरार है। तलाशी लेने पर पुलिस के हाथ घनश्याम का लिखा एक पत्र लगा। इस पत्र में उसने चर्चित फिल्म खलनायक का डॉयलाग लिखकर खुद को नायक नहीं खलनायक हूं मैं बताया है। घनश्याम के पिता तेजराम वर्मा वर्ष 2005-10 तक ग्राम पंचायत के सरपंच रह चुके हैं।

    विवाद के बाद हत्या

    रेवती ने डेढ़ साल बालाजी हॉस्पिटल में जेएनएम का कार्य करने के बाद जनवरी 2018 में काम छोड़ा था। वर्तमान में उर्मिला नर्सिंग होम में स्टाफ नर्स थी। लाश पर चोट के कई निशान पाए जाने से यह प्रतीत हो रहा है कि रेवती के साथ किसी बात को लेकर विवाद बढ़ने पर घनश्याम ने बुरी तरह मारपीट करने के बाद हत्या की। लाश के कई अंग गल चुके हैं। फिलहाल पीएम रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है।

    मामले में हत्या का अपराध कायम कर जांच की जा रही है। मोबाइल का अंतिम लोकेशन बलौदाबाजार मिला। पुलिस ने राजा वर्मा के मोबाइल पर संपर्क करने का प्रयास किया, लेकिन वह दो जुलाई की सुबह से स्विच ऑफ होना पाया गया। अंतिम लोकेशन बलौदाबाजार ट्रेस होने पर पुलिस टीम उसकी तलाश में रवाना हुई है।

    हत्या के बाद घंटों लाश के पास बैठा रहा प्रेमी

    पुलिस का दावा है कि रेवती की हत्या एक जुलाई की देर रात को ही घनश्याम ने कर दी थी। उसके बाद वह लाश के पास घंटों बैठा रहा। दूसरे दिन तड़के विरेंद्र पटेल को हत्या की जानकारी रेवती के मोबाइल से मैसेज के जरिए देने के बाद बाहर से कमरे में ताला लगाकर फरार हो गया।

    About jap24news