Friday , 14 December 2018
पाठक संख्याhit counter
    BREAKING NEWS
    यूपी की 10 राज्यसभा सीट के लिए बीजेपी ने उतारे 11 कैंडिडेट्स, मुश्किल हो सकती है बीएसपी की राह

    यूपी की 10 राज्यसभा सीट के लिए बीजेपी ने उतारे 11 कैंडिडेट्स, मुश्किल हो सकती है बीएसपी की राह

    लखनऊ. उत्तर प्रदेश में 10 सीटों के लिए हो रहे राज्यसभा चुनाव दिलचस्प हो गए हैं। यहां बीजेपी ने नॉमिनेशन की प्रॉसेस खत्म होने से कुछ घंटे पहले 3 और कैंडिडेट्स अनिल अग्रवाल, सलिल विश्नोई और विद्या सागर सोनकर को मैदान में उतार दिया। रविवार देर रात तक पार्टी ने अरुण जेटली समेत 8 लोगों के नाम पहले ही तय कर दिए थे। बीजेपी की इस स्ट्रेटजी को एसपी और बीएसपी के साथ आने का तोड़ बताया जा रहा है। ऐसे में अगर कांग्रेस और एसपी की तरफ से क्रॉस वोटिंग हो गई तो बीएसपी के उम्मीदवार भीम राव आंबेडकर का जीतना मुश्किल हो जाएगा। वहीं, समाजवादी पार्टी (एसपी) की ओर से जया बच्चन पहले ही नॉमिनेशन फाइल कर चुकी हैं। बता दें कि 16 राज्यों की 58 राज्यसभा सीटों के लिए 23 मार्च को वोटिंग होगी और इसी दिन शाम तक रिजल्ट आ जाएंगे।

    बीएसपी कैंडिडेट की मुश्किल क्यों बढ़ेगी?

    – राज्यसभा की एक सीट के लिए किसी भी पार्टी के पास 37 विधायक होने जरूरी हैं। समाजवादी पार्टी के पास इस वक्त 403 में से 47 विधायक हैं। इस हिसाब से एसपी का एक ही कैंडिडेट राज्यसभा में जा सकता है। एसपी ने राज्यसभा के लिए जया बच्चन को चुना है। वे चौथी बार अपर सदन जाएंंगी।

    – बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) के पास 19 विधायक हैं। पार्टी ने भीम राव आंबेडकर को मैदान में उतारा है। जीत के लिए 37 विधायकों का समर्थन चाहिए। समाजवादी पार्टी ने साथ देने का एलान किया है।

    – आंबेडकर को राज्यसभा भेजने के लिए बीएसपी के 19+सपा के 10+कांग्रेस के 7+ राष्ट्रीय लोकदल के 1 वोट के सहारे है। अगर,एसपी, कांग्रेस के विधायक टूट जाते हैं, तो बीएसपी के लिए मुश्किल हो सकती है।

    – ऐसा कहा जा रहा है कि एसपी के वोट भी टूट सकते हैं, क्योंकि इनमे से कुछ शिवपाल यादव के संपर्क में हैं। शिवपाल को एसपी-बीएसपी का साथ पसंद नहीं आया है। पार्टी के कद्दावर नेता नरेश अग्रवाल बीजेपी में शामिल हो चुके हैं।

    बीजेपी कैसे जीत सकती है एक और सीट?

     बीजेपी अलायंस के पास 324 सीट हैं। 8 सदस्यों को राज्यसभा पहुंचाने के बाद 28 विधायक बचते हैं। ऐसे में एक और सदस्य को अपर हाउस भेजने के लिए 9 विधायक का समर्थन चाहिए।

    – ऐसा कहा जा रहा है कि 3 निर्दलीय विधायक का समर्थन पार्टी को मिल सकता है। ऐसे में 6 विधायक और चाहिए। नरेश अग्रवाल बीजेपी ज्वाइन कर चुके हैं। पार्टी सूत्रों के मुताबिक, कांग्रेस और एसपी के विधायक संपर्क में हैं।

    बीजेपी ने यूपी से इन्हें बनाया है उम्मीदवार

    1. अरुण जेटली (वित्त मंत्री)
    2. डॉ. अशोक बाजपेयी
    3. विजयपाल सिंह तोमर
    4. सकलदीप राजभर
    5. कांता कर्दम
    6. डॉ. अनिल जैन
    7. जीवीएल नरसिम्हा राव
    8. हरनाथ सिंह यादव

    9. अनिल अग्रवाल

    10. सलिल विश्नोई

    11. विद्या सागर सोनकर

    यूपी में किसके पास कितनी ताकत?

     उत्तर प्रदेश में 403 विधानसभा सीटें हैं।

    पार्टी सीट
    1. बीजेपी 311
    2. अपना दल 09
    3. भारतीय समाज पार्टी 04
    बीजेपी अलायंस 324
    4. समाजवादी पार्टी (एसपी) 47
    5. बहुजन समाज पार्टी 19
    6. कांग्रेस 07
    7. राष्ट्रीय लोक दल 01
    8. निषाद पार्टी 01
    9. निर्दलीय 03

    क्या है राज्यसभा का गणित?
    – यूपी में 403 विधानसभा सीटें हैं। राज्यसभा चुनाव 10 सीटों के लिए होना है।
    – राज्यसभा चुनाव का फॉर्मूला है= (खाली सीटें + एक) कुल योग से विधानसभा की सदस्य संख्या से भाग देना। इसका जो जवाब आए उसमें भी एक जोड़ने पर जो संख्या होती है। उतने ही वोट एक सदस्य को राज्यसभा चुनाव जीतने के लिए चाहिए।
    – यूपी की सदस्य संख्या 403 है। खाली सीट 10+1= 11। 403/ 11= 36.63। 36.63 +1= 37.63। यूपी राज्यसभा चुनाव जीतने के लिए एक सदस्य को औसतन 37 विधायकों का समर्थन चाहिए।
    किस राज्य में कितनी सीटों के लिए चुनाव ?

    – यूपी में 10, बिहार व महाराष्ट्र में 6-6, बंगाल व मध्य प्रदेश में 5-5, गुजरात व कर्नाटक में 4-4, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, ओडिशा व राजस्थान में 3-3, झारखंड में 2, छत्तीसगढ़, हिमाचल, उत्तराखंड व हरियाणा में 1-1 सीट के लिए चुनाव होगा। केरल में 1 सीट के लिए उपचुनाव भी होगा।

    About jap24news