Monday , 22 January 2018
पाठक संख्याhit counter
    English
BREAKING NEWS
राज्‍ससभा में फिर उठा महाराष्‍ट्र हिंसा का मुद्दा, हो सकती है गंभीर चर्चा …

राज्‍ससभा में फिर उठा महाराष्‍ट्र हिंसा का मुद्दा, हो सकती है गंभीर चर्चा …

कोरेगाव हिंसा का मामला राज्यसभा में भी उठ रहा है ,हर राजनैतिक दल अपने अपने बयान जारी कर रहे है |तो आइये आपको बताते है पूरी खबर बता दे की सोमवार को महाराष्ट्र के पुणे के पास आयोजित होने वाले भीमा कोरेगांव शौर्य दिवस प्रेरणा अभियान के दौरान हिंसा भड़क उठी थी।महारष्ट्र के कोरेगांव में हुई जातीय हिंसा के बाद राज्य सरकार और पुलिस की ओर से कार्रवाई की जा रही है। पुलिस ने इस आरोप में 150 लोगों को गिरफ्तार किया है, जबकि 16 पर एफआईआर दर्ज की गई है|एक तरफ भीमा-कोरेगांव हिंसा की आग में पूरा महाराष्‍ट्र झुलस रहा है, दूसरी तरफ इस मुद्दे पर संसद में राजनीतिक घमासान मचा हुआ है।
कांग्रेस व विपक्ष ने उठाया मामला –
इससे पहले महाराष्ट्र में जारी जातीय हिंसा का मुद्दा बुधवार को भी संसद के दोनो सदनों में छाया रहा। प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस ने राज्यसभा और लोकसभा में इस मुद्दे को जोर शोर से उठा रही है राज्य सभा में कांग्रेस व बसपा ने इस मुद्दे को उठा कर बाजी मारने की पूरी कोशिश की। यहां भी शून्य काल शुरु होते हुए बसपा के सतीश चंद्र मिश्रा, कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद व कई विपक्षी सांसदों ने मामले पर बोलने की इजाजत मांगी। मिश्रा ने भी फासिस्ट ताकतों पर दलितों का उत्पीड़न करने का आरोप लगाया। राज्य सभा को भी कई बार स्थगित करना पड़ा।
गुजरात में भी हो रहा बवाल : गुजरात के राजकोट में कुछ उपद्रवी तत्वों ने स्टेट ट्रांसपोर्ट की बस को आग के हवाले कर दिया। ये बस राजकोट से उपलेटा जा रही थी। रात के अंधेरे में धोराजी के भूखीचौकड़ी के पास हाईवे पर दलित संगठनों के महाराष्ट्र बंद का समर्थन कर रहे कुछ प्रदर्शनकारियों ने इसे रुकवाया। बस यात्रियों से भरी थी। इन लोगों ने पहले बस के सभी लोगों को नीचे उतरने को कहा और फिर पेट्रोल डालकर बस को आग के हवाले कर दिया। कल पूरे दिन गुजरात के कई शहरों में विरोध प्रदर्शन का सिलसिला जारी रहा। वापी में सैकड़ों लोगों ने सड़कों पर टायर जलाए और रेलवे स्टेशन पर रेल रोकने की कोशिश की। वापी से लेकर वडोदरा और सूरत तक कई जगहों पर दलित संगठनों ने सड़कों को जाम किया। रेलवे ट्रैक पर प्रदर्शन किया और आम जनजीवन को रोकने की कोशिश की।

About admin