Tuesday , 13 November 2018
पाठक संख्याhit counter
    BREAKING NEWS
    शिवराज के भाई के घर चाय पर पहुंचे दिग्विजय, भाई नरेंद्र बोले- दिग्विजय हमारे अतिथि

    शिवराज के भाई के घर चाय पर पहुंचे दिग्विजय, भाई नरेंद्र बोले- दिग्विजय हमारे अतिथि

    जैत (सीहोर).मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का पैतृक ग्राम जैत। नर्मदा परिक्रमा कर रहे पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, उनकी परिक्रमा यात्रा के 122 वें दिन मंगलवार को पत्नी अमृता के साथ जैत पहुंचे। यहां उनका स्वागत करने वालों में सबसे आगे रहे मुख्यमंत्री के छोटे भाई नरेंद्र सिंह चौहान। दिग्विजय को उन्होंने चाय पर भी आमंत्रित किया जिसे उन्होंने सहर्ष स्वीकार कर लिया।

    दिग्विजय करीब सवा चार बजे चौहान के निवास पर पहुंचे आधा घंटे रुके, परिवारजनों से मुलाकात की और आगे परिक्रमा के लिए रवाना हो गए। शिवराज पर हमेशा निशाना साधने वाले उनके चिर प्रतिद्वंदी दिग्विजय का जैत में जोरदार स्वागत और चौहान परिवार में चाय पर चर्चा जैत के बाहर भी चर्चा का विषय रही। मुख्यमंत्री के अनुज का कहना था कि दिग्विजय मेरे बड़े भाई हैं, यह उनकी धार्मिक यात्रा है। वैसे भी नर्मदा परिक्रमावासी तो हमारे अतिथि होते हैं। मैं कोई राजनीतिक व्यक्ति नहीं हूं, भाजपा का छोटा सा कार्यकर्ता जरूर हूं। अपने स्वागत पर दिग्विजय इतना ही बोले यह मेरा सौभाग्य।

    नर्मदा पर बने परिक्रमा पथ

    दिग्विजय ने कहा कि वे जो पैदल यात्रा कर रहे हैं, वह मां नर्मदा की परिक्रमा है। उन्होंने मुख्यमंत्री की नर्मदा सेवा यात्रा और एकात्म यात्रा के बारे में कहा कि मैं भी चाहता हूं कि आदि गुरु शंकराचार्य की प्रतिमा स्थापित हो। इसके साथ ही नर्मदा नदी पर परिक्रमा पथ बनाया जाना भी जरूरी है, जिसका फायदा परिक्रमा वासियों को मिल सके। नर्मदा में फैल रहे प्रदूषण पर दिग्विजय ने कहा कि गुजरात में तो कई जगह नर्मदा सूख गई है। अंकलेश्वर में तो यह स्थिति है कि करीब 100 किलोमीटर तक समुद्र का खारा पानी आ गया है, जिससे नर्मदा का पानी पीने योग्य नहीं रह गया है। उन्होंने कहा कि मैं बांध बनाए जाने का विरोधी नहीं हूं, लेकिन यह तय होना चाहिए कि नदी में जल का सतत प्रवाह होता रहे।

    कांग्रेस में मनमुटाव दूर करने निकालूंगा एकता यात्रा

    दिग्विजय ने कहा कि अप्रैल के महीने में नर्मदा परिक्रमा पूरी होने के बाद वे कांग्रेस कार्यकर्ताओं में मनमुटाव दूर करने एकता यात्रा निकालेंगे, जिसका उद्देश्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनाना होगा। इस बारे में पहले पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी से बात करेंगे। दिग्विजय से जब यह पूछा गया कि वे राजनीतिक व्यक्ति हैं, उनकी यात्रा में भी कहीं न कहीं, राजनीति तो झलकती ही है। इस पर उनका कहना था कि कोई राजनीतिक व्यक्ति क्या धार्मिक नहीं हो सकता। दिग्विजय ने साफ कर दिया कि विधानसभा चुनाव के टिकट किसी को मिले, कोई चुनाव लड़े। न तो मुझे चीफ मिनिस्टर बनना है, न चुनाव लड़ना है। बस एक ही उद्देश्य है, मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनवाना।

    About jap24news