Monday , 17 December 2018
पाठक संख्याhit counter
    BREAKING NEWS
    20 साल बाद फ्रांस फिर विश्व फुटबॉल चैंपियन, क्रोएशिया को 4-2 से हराया

    20 साल बाद फ्रांस फिर विश्व फुटबॉल चैंपियन, क्रोएशिया को 4-2 से हराया

    मॉस्को। फ्रांस ने रविवार को फुटबॉल विश्व कप फाइनल में क्रोएशिया को 4-2 से हराते हुए खिताब पर कब्जा जमाया। फ्रांस 20 साल बाद दूसरी बार विश्व चैंपियन बना, उसने पहली बार 1998 में यह खिताब हासिल किया था। फ्रांस एक से ज्यादा बार विश्व कप जीतने वाला छठा देश बन गया।

    फ्रांस को विश्व कप जीतने पर ट्रॉफी के साथ ही 256 करोड़ रुपए और उपविजेता क्रोएशियाई टीम को 159 करोड़ प्रदान किए गए। हैरी केन को गोल्डन बूट (सबसे ज्यादा गोल) प्रदान किया गया जबक‍ि क्रोएशिया के लुका मॉडरिक विश्व कप के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी चुने गए। उन्हें गोल्डन बॉल से सम्मानित किया गया। फ्रांस के किलियन एम्बापे विश्व कप के सर्वश्रेष्ठ उभरते खिलाड़ी बने। बेल्जियम के थिबॉट कोर्टियस ने सर्वश्रेष्ठ गोलकीपर का गोल्डन ग्लोब्ज अवॉर्ड हासिल किया जबकि फेयर प्ले ट्रॉफी स्पेनिश टीम को प्रदान की गई।

    फ्रांस ने इससे पहले 1998 विश्व कप के सेमीफाइनल में भी क्रोएशिया को हराया था। इस बार क्रोएशिया उससे बदला नहीं ले पाया। फ्रांस के मैनेजर डिडिएर डेशचैंप्स खिलाड़ी और मैनेजर के रूप में विश्व कप जीतने वाले दुनिया के तीसरे शख्स बन गए।

    18वें मिनट में मारियो मेंजुकिच के आत्मघाती गोल की वजह से फ्रांस को बढ़त मिली। इसके बाद 28वें मिनट में पेरिसिच ने गोल दागते हुए क्रोएशिया को बराबरी दिलाई। 39वें मिनट में ग्रीजमैन ने पेनल्टी पर गोल दागते हुए फ्रांस को 2-1 से आगे कर दिया। पोग्बा ने 59वें मिनट में गोल दागा। किलियन एम्बापे ने 65वें मिनट में फ्रांस का चौथा गोल दागा। मारियो मेंजुकिच ने 69वें मिनट में क्रोएशिया का दूसरा गोल बनाया।

     लुझनिकी स्टेडियम में फ्रांस की तुलना में क्रोएशियाई फैंस ज्यादा तादाद में मौजूद थे। इनकी उपस्थिति में क्रोएशिया ने बाएं फ्लैंक से लगातार हमले बोले। आठवें मिनट में उसे कॉर्नर मिला लेकिन वह फायदा नहीं उठा पाया। 18वें मिनट में फ्रांस के ग्रीजमैन ने 30 गज की दूरी से फ्रीकिक ली और फ्रांस के मेंजुकिच हैडर के जरिए गेंद को अपने ही गोल पोस्ट में पहुंचा बैठे। 28वें मिनट में क्रो‍एशिया को फ्रीकिक मिली। मॉडरिक द्वारा ली गई किक पर कई हैडर हुए और इसके बाद इवान पेरिसिच ने शानदार लेफ्ट फुटर के जरिए फ्रांसिसी गोलकीपर को चकमा देते हुए गोल दागा। क्रोएशिया 1-1 की बराबरी पर पहुंच गया।

    फ्रांस को कॉर्नर मिला और ग्रीजमैन के कॉर्नर पर क्रोएशियाई पेरिसिच ने हाथ से गेंद को रोका। फ्रांसिसी खिलाडि़यों ने पेनल्टी की मांग की जिसके बाद रैफरी ने वीएआर की मदद से पेनल्टी देने का फैसला किया। 39वें मिनट में ग्रीजमैन ने पेनल्टी पर गोल दागते हुए फ्रांस को 2-1 से आगे कर दिया।

    पॉल पोग्बा ने 59वें मिनट में शानदार गोल दागते हुए फ्रांस को 3-1 की बढ़त दिलाई। 65वें मिनट में फर्नांडिज ने बॉक्स के कॉर्नर पर एम्बापे को गेंद सौंपी जिन्होंने गोल दागने में कोई गलती नहीं की। फ्रांस 4-1 से आगे हो गया। 69वें मिनट में क्रोएशिया को तोहफे में गोल मिला जब फ्रांसिसी गोलकीपर हुगो लॉरिस की लापरवाही का फायदा उठाते हुए मारियो मेंजुकिच ने उनके सामने से गोल दाग दिया। क्रोएशिया के इस दूसरे गोल के बाद कोई गोल नहीं हुआ और फ्रांस ने 4-2 से यह मुकाबला जीत लिया।

    एक नजर इधर भी…

    विश्व कप फाइनल में पहला आत्मघाती गोल : क्रोएशिया के मारियो मेंजुकिच का नाम फुटबॉल विश्व इतिहास में दर्ज हो गया क्योंकि वे फाइनल में आत्मघाती गोल दागने वाले पहले खिलाड़ी बन गए।

    वीएआर के जरिए फाइनल में पहली पेनल्टी : क्रोएशिया के इवान पेरिसिच ने 38वें मिनट में ग्रीजमैन द्वारा लिए गए कॉर्नर पर गेंद को हाथ से रोका। फ्रांसिसी खिलाड़‍ियों की अपील पर रैफरी ने वीएआर के जरिए इस पर पेनल्टी प्रदान की। ग्रीजमैन ने इस पर गोल दागते हुए फ्रांस को 2-1 की बढ़त दिलाई।

    एक तरफ पूर्व चैंपियन फ्रांस दूसरी बार खिताब जीतने के सपने देख रहा है तो दूसरी तरफ पहली बार फाइनल में पहुंची क्रोएशियाई की टीम अपने 20 साल के फुटबॉल इतिहास का सबसे बड़ा मुकाबला खेलने उतरा है।

    टूर्नामेंट की दूसरी सबसे युवा टीम के रूप में खेल रही फ्रांस की टीम ने किलियन एम्बापे और एंटोइन ग्रीजमैन जैसे सितारों के दम पर फाइनल तक का सफर तय किया है। वहीं, लुका मॉड्रिच और इवान रेकिटिच की अगुआई में क्रोएशिया की टीम ने सबको चौंकाते हुए फाइनल में जगह बनाई है।

    फ्रांस और खिताब के बीच मॉड्रिक एक बड़ी दीवार होंगे जिन्हें मौजूदा समय में दुनिया का सर्वश्रेष्ठ मिडफील्डर माना जा रहा है। सेमीफाइनल में फ्रांस ने जहां बेल्जियम को हराकर तो क्रोएशिया ने इंग्लैंड को हराकर खिताबी मुकाबले में जगह बनाई है।

    ‘हमने मुश्किल रास्ता तय किया है। अगर हमारी टीम द्वारा खेले मिनटों की गिनती की जाए तो शायद हमारी टीम एक विश्व कप में फाइनल तक पहुंचने के लिए आठ मुकाबले खेलने वाली पहली टीम होगी। यह हमारे जीवन का सबसे बेहतरीन मौका है। यहां तक पहुंचना हमारे लिए मुश्किल रहा है, लेकिन मुझे यकीन है कि हम ताकत और प्रेरणा हासिल करने में सफल रहेंगे।’ – ज्लाटिको डालिक, कोच, क्रोएशिया

    आमने-सामने

    कुल मैच : 06

    फ्रांस जीता : 04

    क्रोएशिया जीता : 00

    ड्रॉ : 02

     

     

    About jap24news