Saturday , 21 April 2018
पाठक संख्याhit counter
    BREAKING NEWS
    60 साल से लाइट का इंतजार पूरा हुआ ,मिली थोड़ी राहत ….

    60 साल से लाइट का इंतजार पूरा हुआ ,मिली थोड़ी राहत ….

    अब तक की सबसे चौकाने वाली खबर छत्तीसगढ़ प्रदेश से मिल रही है जहा आजादी के बाद एक गांव में बिजली का आगमन तो हुआ पर एक दम अलग तरीके से चलिए आपको बताते है पूरी खबर आजादी के बाद कोडार गांव में 60 साल बाद दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण विद्युतीकरण योजना से बिजली पहुंची। नियम कायदे को ताक में रख निजी कंपनी ने खुलकर भर्राशाही की। कोडार से हरदीकछार रोड में पेड़ की टहनिया काट बिजली के 11 केवी के तार बिछा दिए गए। इससे दुर्घटना की संभावना बढ़ गई है। आश्चर्य की बात है कि वितरण विभाग के आला अफसरों को भी इसकी भनक नहीं लग सकी।कोरबा में बनने वाली बिजली से राज्य के साथ ही अन्य प्रदेश रोशन होता रहा है।

    बावजूद कोरबा के कई गांव में अंधेरा पसरा हैहाड़ी व जंगली इलाका होने की वजह से विभाग के समक्ष कई अड़चन रही। केंद्र सरकार की दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण विद्युतीकरण योजना के तहत वनांचल के ग्रामों को रोशन करने की काम चल रहा है। ग्राम कोड़ार में भी 60 साल बाद पिछले माह बिजली पहुंची।
    पेड़ आड़े तिरछे होने के बाद भी तार खींचने में कोताही नहीं बरती गई। ग्रामीणों का कहना है कि पेड़ सूखने या फिर टूटने से दुर्घटना होने से इंकार नहीं किया जा सकता। साथ ही 11 केवी लाइन का तार नीचे होने पर ग्रामीणों एवं जानवरों को भी नुकसान पहुंच सकता है।
    हो सकती है बढ़ी गड़बड़ :अभी सिर्फ कोडार गांव का ही मामला सामने आया है, जबकि जिले के अन्य वनांचल ग्रामों में विद्युत पहुंचाने का कार्य किया जा रहा है। विद्युत पोल की बजाय पेड़ में तार खींच कर कंपनी द्वारा लाखों की गड़बड़ी किए जाने की संभावना जताई जा रही है। वितरण विभाग दीनदयाल योजना अंतर्गत जिले के वनांचल 135 मझरा-टोलों को विद्युतीकरण करा रहा है। इसमें 28 स्थान पर सोलर ऊर्जा से बिजली प्रदान की जाएगी,

    About admin