Monday , 17 December 2018
पाठक संख्याhit counter
    BREAKING NEWS
    MP Election 2018: भाजपा पल-पल और पाई-पाई का हिसाब देती है-अमित शाह

    MP Election 2018: भाजपा पल-पल और पाई-पाई का हिसाब देती है-अमित शाह

    जबलपुर। रेलवे स्टेशन पर यात्रियों के लिए पानी से लेकर बैठने तक की सुविधाओं को बेहतर किया गया है, लेकिन ट्रेनों की जानकारी देने वाले पूछताछ केन्द्र अभी भी बेहाल हैं। रेलवे अब पूछताछ केन्द्र को निजी हाथों में देने जा रही है, ताकि इनकी हालात सुधर सके।

    यूनिफार्म में तैनात निजी कंपनी के कर्मचारी शालीनता से प्लेटफार्म पर यात्रियों को न सिर्फ ट्रेनों की लोकेशन बताएंगे, बल्कि रेलवे से जुड़ी समस्या भी सुनकर दूर करेंगे। इसके लिए रेलवे ने देश के ए वन और ए श्रेणी के स्टेशनों में पूछताछ केन्द्र पर निजी कर्मचारियों को तैनात करने का निर्णय लिया है। इसमें पश्चिम मध्य रेलवे के जबलपुर स्टेशन भी शामिल है।

    ऑडियो-वीडियो पूछताछ केन्द्र ने बढ़ाया तनाव

    रेलवे ने प्लेटफार्म के सुविधाओं की समीक्षा की, जिसमें बाकी सुविधाएं तो बेहतर मिलीं, लेकिन पूछताछ केन्द्र की व्यवस्था को लेकर पैसेंजर असंतुष्ट हैं। इधर इन केन्द्र पर तैनात रेल कर्मचारी भी पैसेंजर के व्यवहार और भीड़ से इतने परेशान हो गए कि वे यहां काम नहीं करना चाहते। हालांकि रेलवे ने इन केन्द्रों को सुधारने के लिए ऑडियो-वीडियो पूछताछ केन्द्र खोले, लेकिन समस्या कम होने की बजाए और बढ़ गई। इनके शुरू होने से ऑडियो-वीडियो की खराब क्वालिटी से पैसेंजर परेशान हुए तो वहीं कंट्रोल रूम में बैठकर दो से तीन सेंटर पर ट्रेनों की जानकारी देने पर कर्मचारियों को तनाव बढ़ गया।

    अब क्या होगा

    – सुविधा को जल्द शुरू करने निजी कंपनी और कर्मचारियों को दिया जाएगा

    – जिस कंपनी को टेंडर दिया जाएगा, वह तीन साल के लिए यह जिम्मेदारी संभालेगी।

    – इसके लिए रेलवे, कई स्टेशन और एयरपोर्ट की पूछताछ केन्द्र का सर्वे भी कर रहा है।

    – निजी कंपनी के कर्मचारियों को तीन शिफ्ट में यहां बैठाया जाएगा।

    – एजेंसी के कर्मचारी को इसके लिए विशेष प्रशिक्षण दिया जाएगा।

    दानापुर का सर्वे कर लौटी थी जबलपुर टीम

    कुछ माह पूछ जबलपुर रेल मंडल के कमर्शियल विभाग ने अपने कुछ स्टेशनों के पूछताछ केन्द्र को निजी हाथों में देने का मन बनाया था। इसके लिए विभाग की एक टीम दानापुर रेलवे स्टेशन भेजी गई थी, जहां पहले से पूछताछ केन्द्र को निजी हाथों में दे रखा है, लेकिन यह प्रस्ताव आगे नहीं बढ़ा। अब रेलवे बोर्ड ने इसकी पहल की है। विभाग की मानें तो अभी वह ऐसे कुछ करने पर विचार नहीं कर रहा, लेकिन बोर्ड से आदेश आने पर जरूर करेगा।

     

    About jap24news