Sunday , 19 November 2017
पाठक संख्याhit counter
    English
BREAKING NEWS

छत्तीसगढ़

पैर के पंजे जमीन पर नहीं पड़ते, लेकिन चेहरे पर नहीं दिखती दिव्यांगता

paramsukh11_20171115_92439_15_11_2017

रायपुर । नाम परमसुख, पेशे से रिक्शा चालक… जो रोजाना ढाई से 3 क्विंटल सामान अपने रिक्शे पर रखकर कई किलोमीटर तक छोड़ने जाते हैं। आपको इसमें कुछ भी असामान्य नहीं लग रहा होगा, लेकिन जरा परमसुख के पैर और चेहरे पर नजर डालिए। दोनों पैर के पंजे पूरी तरह जमीन पर नहीं पड़ते, ये मुड़े हुए हैं, लेकिन चेहरे पर ... Read More »

संपर्क क्रांति एक्सप्रेस में टॉयलेट के पानी से पका रहे थे खाना, 10 हजार का जुर्माना

untitled-1_1509488118

बिलासपुर।निजामुद्दीन-दुर्ग छत्तीसगढ़ संपर्क क्रांति एक्सप्रेस की पेंट्रीकार में खाना बाथरूम के नल से पानी लेकर बनाया जा रहा था। अचानक जांच करने पर मामला सामने आया तो 10 हजार रुपए का जुर्माना किया गया। इसके अलावा पेंट्रीकार में बिना तारीख वाले ब्रेड के पैकेट मिले जिसे उतरवा लिया गया। – ट्रेनों में मिलने वाले घटिया भोजन को लेकर रेलवे प्रशासन ... Read More »

प्रेमी के साथ किराए के घर में रह रही महिला ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

untitled-1_1509488431

अंबिकापुर ।शहर के नवापारा क्षेत्र में प्रेमी के साथ किराए के घर में रह रही एक महिला ने सोमवार को अपने कमरे में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। घटना के बारे में शाम को उस समय पता चला जब मकान मालिक उसे बुलाने गए। घटना के समय वह घर में अकेली थी। घर का दरवाजा अंदर से बंद था। कमरे ... Read More »

संस्कृत पर माशिमं मेंबरों का यू-टर्न, दो साल पहले कोर्स हटाया, अब सिफारिश

untitled-1_1509487627

रायपुर।दो साल पहले माध्यमिक शिक्षा मंडल (माशिमं) की परीक्षा समिति ने वोकेशनल विषय के बारे में जिस प्रस्ताव को पास किया था। अब मंडल सदस्यों को उसी पुराने फैसले पर ऐतराज है। नवमीं-दसवीं में तीसरी भाषा के रूप में पढ़ाई जा रही संस्कृत को वोकेशनल विषय के लिए हटाया गया था। इसे ऐच्छिक किया गया था। अब वही सदस्य इसे ... Read More »

जंगल में बिखरी पड़ी थी नेताओं की लाशें, नक्सलियों ने ऐसे किया था हमला

untitled-1_1509476739

रायपुर। देश की हिस्ट्री में कभी न भूलने वाला दिन था झीरम घाटी में हुआ नक्सली हमला, जिसमें 25 से ज्यादा कांग्रेसी नेताओं की बेरहमी से हत्या कर दी गई थी। चारों तरफ बिखरी पड़ी थी लाशें… 26 मई 2013 को कांग्रेस की परिवर्तन यात्रा के दौरान नेताओं का काफिला जब दरभा पहुंचा। तब नक्सलियों ने काफिलें पर हमला कर दिया। – ... Read More »

प्रदेश में दिल का पहला सरकारी अस्पताल एसीआई आज से, ओपीडी 3 घंटे की

untitled-1_1509486153

रायपुर।प्रदेश में हार्ट का पहला सरकारी सुपर स्पेश्यालिटी अस्पताल यानी एडवांस कार्डियक इंस्टीट्यूट (एसीआई) बुधवार से राजधानी में शुरू होने जा रहा है। राज्य स्थापना दिवस पर यह संस्थान शुरू होगा और पहले दिन सरकारी छुट्टी के बावजूद हार्ट के मरीजों के लिए सुबह 9 से दोपहर 12 बजे तक ओपीडी चलेगी। इससे पहले, मंगलवार को एस्कार्ट हार्ट सेंटर अधिकारिक ... Read More »

मिश्रा को प्रमुख सचिव बनाने 6 को 14 माह पहले प्रमोशन

untitled-1_1509485931

रायपुर।जल संसाधन विभाग के सचिव गणेशशंकर मिश्रा मंगलवार को रिटायर हो गए। रिटायर होने के पहले मात्र तीन घंटे के लिए वे प्रमुख सचिव के तौर पर काम भी कर गए, क्योंकि सरकार ने उन्हें मंगलवार को ही प्रमुख सचिव के पद पर पदोन्नत किया। उनको प्रमोशन देने के लिए राज्य के छह आईएएस अफसरों को भी पदोन्नत कर दिया ... Read More »

पति की लाश के साथ 6 दिनों तक रही पत्नी, लव मैरिज के बाद हुआ ये हाल

vbnvnvnvnv_1509484417

बैकुण्ठपुर (रायपुर).मनेन्द्रगढ़ थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत परसगढ़ी में एक मृतक का अंतिम संस्कार 6 दिनों तक इसलिए नहीं किया गया क्योंकि मृतक शिवनाथ ने प्रेम विवाह किया था और गांव के लोगों से उसकी कोई नातेदारी नहीं थी।6 दिनों तक पति की लाश के साथ रही पत्नी… वहीं ग्रामीणों का यह भी कहना है कि उन्हे शिवनाथ की मृत्यु ... Read More »

18वां साल लाएगा बड़े बदलाव, आम आदमी को होगा सीधा फायदा

untitled-1_1509485637

रायपुर।18वें बरस में प्रवेश कर छत्तीसगढ़ राज्य 1 नवंबर को स्थापना दिवस मनाएगा। आने वाला साल छत्तीसगढ़ के लोगों के लिए कई मायने मंे अहम होगा।  रोजगार और सुविधाएं बढ़ाने वाले चार महत्वपूर्ण कदमों को, जिनसे अगले साल राज्य के लोगों को सीधा फायदा होगा। – सबसे बड़ा बदलाव बस्तर में देखने को मिलेगा, जहां पर नगरनार में एनएमडीसी का ... Read More »

यहां दूसरी शादी के लिए यूं तैयार की जाती हैं लड़कियां, निभाई जाती है एक रस्म

trible-20_1509369564

रायपुर।छत्तीसगढ़ में आदिवासी समाज अपने रहन-सहन और अजब-गजब मान्यताओं के चलते काफी फेमस है। ये इस राज्य को एक अलग पहचान देते हैं। भले ही आज पढ़े-लिखे समाज में विधवा विवाह का प्रचलन मान्य हो गया हो, लेकिन ये व्यवस्था इस आदिवासी कम्यूनिटी में वर्षों पहले से चली आ रही है। लड़की को यहां विधवा नहीं रखा जाता है बल्कि ... Read More »