Sunday , 20 May 2018
पाठक संख्याhit counter
    BREAKING NEWS

    पर्यटन

    कई संस्कृतियों का संगम है मलक्का में

    56

    यूं तो मलेशिया में कई ऐसी जगहें हैं जहां आप समुद्री तटों, गगनचुम्बी इमारतों और अत्याधुनिक मनोरंजन के साधनों का लुत्फ उठाते हुए अपनी छुट्टियों का भरपूर आनंद ले सकते हैं। लेकिन मलेशिया में संपूर्ण एशिया का अहसास करना हो तो मलक्का से बेहतर और कोई जगह नहीं हो सकती। मलक्का मलेशिया का करीब 600 वर्ष पुराना राज्य है जहां ... Read More »

    उदयपुर दुनिया में अव्वल

    135

    उदयपुर को झीलों की नगरी भी कहा जाता है तो वेनिस ऑफ ईस्ट भी। उदयपुरवासियों के लिए यह खबर तन-मन को भिगो देने वाली होगी कि उनके शहर को एक सर्वे में दुनिया का सर्वश्रेष्ठ शहर आंका गया। एक प्रतिष्ठित पत्रिका ट्रैवल प्लस लेजर मैगजीन ने एक ऑनलाइन सर्वे के नतीजों के अनुरूप उदयपुर को सैलानियों के लिए 2009 में ... Read More »

    मराठों का मिनी खजुराहो गणेश बाग

    134

    राजश्री टंडन जैसे लोगों ने खजुराहो, उसके वास्तु, उसके दर्शन का जमकर विरोध किया किन्तु खजुराहो का दर्शन और उसका शिल्प भारतीय कला पर अपनी छाप छोड़ता गया। बुंदेलखंड  और उसके बाहर अनेक ऐसे मंदिर मिल जाएंगे जिन पर खजुराहो के दर्शन और वास्तु का स्पष्ट प्रभाव है। मराठे भी इस प्रभाव से अछूते न रहे। राजा छत्रपाल से पेशवा ... Read More »

    शिल्प और आस्था का संगम है उड़ीसा

    133

    ऐतिहासिक स्थापत्य, अद्भुत मूर्तिशिल्प व सुनहरे सागरतट की भूमि उड़ीसा में पुरी, कोणार्क और भुवनेश्वर का पर्यटनत्रय प्रकृति, धर्म व सूर्य के समन्वय का अनूठा मिसाल है। हमारी यात्रा का पहला पड़ाव था पुरी। देश के चार पवित्र धामों में एक पुरी को जगन्नाथ पुरी, पुरुषोतम नगरी व शंखक्षेत्र के नाम से भी जाना जाता है। पुरी पहुंच कर हमने ... Read More »

    आस्था का प्रमुख केन्द्र श्री गोरक्षनाथ मंदिर

    132

    हिन्दू धर्म, दर्शन, अध्यात्म और साधना के अंतर्गत विभिन्न संप्रदायों और मत-मतांतरों में नाथ संप्रदाय का प्रमुख स्थान है। श्री गोरक्षनाथ मंदिर इस संप्रदाय का प्रमुख केन्द्र है। संपूर्ण देश में फैले नाथ संप्रदाय के विभिन्न मंदिरों तथा मठों की देख रेख यहीं से होती है। गोरक्षनाथ मंदिर गोरखपुर में अनवरत योग साधना का क्रम प्राचीन काल से चलता रहा ... Read More »

    कला-संस्कृति की अहमियत है इंग्लैंड में

    131

    मेरी शादी सत्रहवें वर्ष में हो गई थी। शादी से पहले मुझे घूमने का कोई खास मौका नहीं मिला और न उसके तुरंत बाद ही मिल सका। पहले मैं पुणे में रहती थी और पढ़ाई-लिखाई में व्यस्त थी। संगीतकार अरुण पौडवाल से शादी हो जाने के बाद मैं पुणे से मंबई आ गई और फिर घर-गृहस्थी में रम गई। धीरे-धीरे ... Read More »

    देवों के जलसे

    DCF 1.0

    कृष्ण जन्माष्टमी यूं तो कृष्णजन्मोत्सव का पर्व तमाम हिंदू घरों में बड़े उत्साह से मनाया जाता है। लोग घरों में झांकियां लगाते हैं। मंदिर सजाये जाते हैं। लेकिन जन्माष्टमी का त्योहार कृष्ण की जन्मस्थली मथुरा में मनाने की कामना ज्यादातर लोगों की होती है। वहां का माहौल ही इस मौके पर कुछ अलग होता है। इसीलिए हर साल लाखों की ... Read More »

    पत्थरों में छलकता सौंदर्य भोरमदेव

    64

    छत्तीसगढ़ स्थापत्य कला के अनेक उदाहरण अपने आंचल में समेटे हुए हैं। यहां के प्राचीन मंदिरों का सौंदर्य किसी भी दृष्टि से खजुराहो और कोणार्क से कम नहीं है। यहां के मंदिरों का शिल्प जीवंत है। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से लगभग 116 किलोमीटर उत्तर दिशा की ओर सकरी नामक नदी के सुरम्य तट पर बसा कवर्धा नामक स्थल नैसर्गिक ... Read More »

    श्रद्धा की त्रिवेणी रिवालसर की ओर

    63

    हिमालय प्रदेश की खूबसूरत गोद में पसरी एक झील है पद्मसंभव। लेकिन कोई कहे कि पद्मसंभव झील चलें तो पता नहीं चलेगा, हां कहा जाए कि रिवालसर चलें तो बनेगी बात। पद्मसंभव व रिवालसर अब एक-दूसरे का पर्याय हैं। रिवाल गांव अब कस्बा हो चुका है, सर यानी जलस्त्रोत, मिलाकर कहें तो रिवालसर। कभी हर बरस कुछ इंच बर्फ ओढ़ने ... Read More »

    उदयपुर दुनिया में अव्वल

    62

    उदयपुर को झीलों की नगरी भी कहा जाता है तो वेनिस ऑफ ईस्ट भी। उदयपुरवासियों के लिए यह खबर तन-मन को भिगो देने वाली होगी कि उनके शहर को एक सर्वे में दुनिया का सर्वश्रेष्ठ शहर आंका गया। एक प्रतिष्ठित पत्रिका ट्रैवल प्लस लेजर मैगजीन ने एक ऑनलाइन सर्वे के नतीजों के अनुरूप उदयपुर को सैलानियों के लिए 2009 में ... Read More »