Friday , 14 December 2018
पाठक संख्याhit counter
    BREAKING NEWS

    पर्यटन

    हणोगी माता

    61

    हिमाचल प्रदेश के अलग-अलग शोभा वाले अनेक मंदिरों में से एक है हणोगी माता मंदिर। राष्ट्रीय राजमार्ग 21 पर मंडी और कुल्लू के बीच बने पंडोह बांध से कुछ आगे चलकर व्यास नदी के दूसरी ओर यह एक पर्वत पर शोभायमान है जिसका सौंदर्य देखते ही बनता है। देवी के तीन रूप हणोगी नामक स्थान पर स्थित इस मंदिर में ... Read More »

    वर्तमान में अतीत की यात्रा है अजंता

    75

    अगर आपसे कोई पूछे कि क्या आप आगे चलकर पीछे पहुंच सकते हैं तो आप एक बार तो उसे ‘क्या बेवकूफ है’ की नजरों से देखेंगे और अगर इसके बाद भी उसकी आंखों में वही दृष्टि बनी रही तो आपका जवाब नकारात्मक ही होगा। लेकिन महाराष्ट्र के औरंगाबाद से करीब सौ किमी आगे चलकर अजंता पहुंचे तो आप करीब डेढ़ ... Read More »

    एक सफर यादों का

    74

    यूरोप में पर्यटकों के लिए आकर्षण के दो मुख्य केंद्र हैं – इंग्लैंड और स्विट्जरलैंड। आधुनिक विश्व में ये दोनों देश सत्ता के भी दो प्रमुख केंद्रों के रूप में जाने जाते हैं। ब्रिटिश साम्राज्य के बारे में कहावत थी कि इसका सूरज डूबता नहीं है। जबकि दुनिया के तमाम देशों की पंचायत संयुक्त राष्ट्रसंघ का मुख्यालय स्विट्जरलैंड में है। ... Read More »

    सौंदर्य और शौर्य के देश फ्रांस व इटली

    73

    युरोप के प्रमुख देशों की जब गिनती की जाती है तो उनमें फ्रांस और इटली का  नाम पहली पंक्ति में आता है। इन दोनों देशों की खासियत यह है कि ये अपनी पारंपरिक विरासत के मामले में जितने समृद्ध और उसे सहेजने में जितने सतर्क हैं, आधुनिकता के ध्वजवाहक के रूप में भी उतने ही महत्वपूर्ण हैं। यह कहना गलत ... Read More »

    लक्षद्वीप: सागर में सिमटा सौंदर्य

    72

    नीले अरब सागर के जल से धोया हुआ, मूंगा व प्रवाल से गढ़ा, झरनों के इंद्रधनुषी सौंदर्य  से घिरा लक्षद्वीप मोहक द्वीपसमूह है। लक्षद्वीप, मिनीकॉय व अभिनदीप – इन तीनों को मिलाकर 1 जनवरी 1973 को लक्षद्वीप का गठन हुआ। यहां द्वीपों की कुल संख्या 36 है। इनमें केवल 10 द्वीपों में ही आबादी है। यहां नारियल के पेड़ों की ... Read More »

    इतिहास की धरोहर : महलों और बागों का कस्बा डीग

    71

    राजस्थान की गौरव गाथा में भरतपुर का विशेष स्थान तो है परंतु इससे जुड़े कई तथ्यों की जानकारी लुप्तप्राय है। ब्रिटिश साम्राज्य को टक्कर देने वाली इस छोटी सी रियासत के राजाओं ने अपनी वीर सेनाओं की सहायता से चार महीनों तक चली जंग में अंग्रेजी फौजों को करारी मात देकर उन्हें भारी क्षति पहुंचाई। भरतपुर पहला राज्य बना जिसके ... Read More »

    मध्य प्रदेश की ऐतिहासिक विरासत: दतिया

    145

    दिल्ली में रहने वाले लोग मध्य प्रदेश घूमने का मन बनाते हैं तो उनकी कल्पना ओरछा और खजुराहो के मंदिरों तक ही दौड़ती है। मैं भी उनमें से एक हूं। मैंने भी तय किया कि मध्य प्रदेश में ओरछा होकर आता हूं। उसके लिए मुझे झांसी तक ट्रेन से जाना था तो दिन की ट्रेन में सवार होकर चल पड़ा ... Read More »

    कौमी एकता का प्रतीक अजमेरशरीफ

    144

    अजमेर का इतिहास जितना रोचक है, धार्मिक दृष्टि से वह उतना ही महत्वपूर्ण है। अरावली की पहाडि़यो के मध्य तारागढ़ नामक पहाड़ी के आसपास फैले इस शहर को चौहान राजा अजयपाल ने सातवी सदी मे बसाया था। चौहान राजाओं के बाद यह मेवाड़ के राणाओं, मुगल शासक अकबर और फिर अंगे्रजो के अधिकार मे रहा। धार्मिक दृष्टि से यह शहर ... Read More »

    गोवा बारह माह, चौबीस घण्टे पर्यटन

    143

    गोवा भारत के सबसे लोकप्रिय और सदाबहार पर्यटन स्थलों में शामिल है। प्राकृतिक सौंदर्य से परिपूर्ण समुद्र तट, वैभवशाली अतीत की याद दिलाते कई किले, सांझी संस्कृति के परिचायक मंदिर व गिरजाघर, कला के बेहतरीन नमूने समेटे कला दीर्घाएं, ट्रैकिंग के शौकीनों के लिए सुविधायुक्त ट्रैक्स व खाने-पीने के लिए एक से बढ़कर एक समुद्री व्यंजन और अन्य स्वादिष्ट खाद्य ... Read More »

    इतिहास का सफरनामा

    142

    स्वीडिश शिप ‘योत्तेबोरी’ ढाई सौ साल पहले के स्वीडन के एक जहाज कास्ट इंडियामैन की हूबहू अनुकृति या रेप्लिका है। उस जहाज की, जो सितंबर 1745 में अपने तीसरे अभियान पर चीन से लौटते हुए सफर पूरा होने से बस थोड़ा ही पहले योतेबोरी शहर के बंदरगाह के मुहाने पर समुद्र में डूब गया था। तब से समुदंर की गहराइयों ... Read More »